मिथुन राशी 2014 का भविष्य – Gemini amount future of 2014 In Hindi

gemini-art

साल के प्रारंभ से 19 जून 2014 तक गुरु महाराज आपकी राशि पर से परिभ्रमण करेंगे, जिससे आपके सामने नए मौके आएंगे। चंद्र को पूरी तरह से बल मिलता रहेगा लेकिन साल के प्रारंभ में गुरु वक्री होने से आपको किसी भी दिशा में सोच-समझकर आगे कदम उठाना होगा। गुरु के पंचम स्थान यानि कि संतान के स्थान पर शुभ दृष्टि होने से संतान से संबंधित काम होंगे, परंतु शनि और राहू पंचम स्थान में पहले से ही मौजूद हैं, जिसकी वजह से अपेक्षित लाभ मिलने की संभावना कम है। अविवाहित मिथुन जातकों के लिए श्रेष्ठ समय चल रहा है, सफलता आपके कदम चूमेगी। जन्म कुंडली और ग्रहों की दशा, अंतर्दशा के अनुसार आपको फल मिल सकते हैं। जो जातक भाग्य के बल पर आगे नहीं बढ़ सकते, उनके लिए गुरु महाराज इंजन में पेट्रोल का काम कर करेंगे, ऐसा कह सकते हैं। शेयर, सट्टा, लॉटरी या स्पेक्युलेशन के व्यवसाय से संलग्न जातकों को अभी बहुत ही सावधान रहना पड़ेगा, क्योंकि शनि और राहू दोनों पाप ग्रह आपके पंचम भाव में जा रहे हैं।


11 से 20 जनवरी – घर के बाहर कुछ परेशानी हो सकती है। निद्रा एवं आलस्य का प्रभाव रहेगा एवं किसी भी कार्य को करने में मन नहीं लगेगा। किसी की बातों से ठेस भी लग सकती है। स्वयं के कार्यों के प्रति सजग रहें एवं लेन-देन में सावधानी रखें।


1 से 20 फरवरी – बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा। नए सौदे मिलेंगे एवं मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। मकान-निर्माण या मरम्मत में धन-व्यय हो सकता है। नए दोस्त बनेंगे। विदेश जाने की इच्छा रखने वालों की इच्छा पूर्ण होगी।


21 से 31 मार्च – किसी पर अत्यधिक भरोसा कर जोखिम न लें एवं धन के अंतरण में सचेत रहें।


11 से 20 सितंबर – स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना होगा। सर्दी एवं आंखों के रोग होने की संभावना है। भाग्य एवं पुरुषार्थ से सुविधाएं पाने में सफल होंगे। पराक्रम श्रेष्ठ रहेगा एवं भाई-बहनों का सहयोग प्राप्त होगा। कर्इ कार्य एक साथ करने पड़ सकते हैं।


21 से 31 दिसंबर – 22 से 25 तक का समय लाभ देने वाला रहेगा। आसानी से हर कार्य हो जाएंगे। कार्यस्थल एवं घर पर खुशियां प्राप्त होंगी एवं आर्थिक मामलों में भी बेहतर परिणाम प्राप्त करेंगे। महीने के अंत में शुभचिंतकों एवं मित्रों पर ज्यादा भरोसा न करें। काम बिगड़ सकता है, अत: सावधान रहें।

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>