कुंभ राशी 2014 का भविष्य – Aquarius amount future of 2014 In Hindi

aquarious_symbol

आपकी राशि का स्वामी शनि उच्च पर होकर भाग्य स्थान में विराजमान है। परंतु राहू के साथ होने से करियर एवं प्रवास से संबंधित मुश्किलों का बारंबार सामना करना पड़ रहा है। आपने भविष्य के लिए जो योजना बनाई होंगी, उसमें बार-बार कोई ना कोई अवरोध आ सकता है। भाग्य स्थान में उच्च का शनि विराजमान है, जिससे जो फ़ल जल्दी प्राप्त होना चाहिए था, वह नहीं होने दे रहा है। वैसे भी शनि महाराज को गति देने के लिए हनुमानजी की उपासना करना ज़रूरी है। विद्याभ्यास, संतान, प्रेम प्रसंग को लेकर सामान्य तौर पर यह साल आपके लिए अच्छा दिख रहा है।


1 से 31 जनवरी – भूमि-भवन से संबंधित कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। अचानक खुशी समाचार प्राप्त होगा एवं धन की प्राप्ति होगी। नौकरी में कार्य का दबाव रहेगा एवं व्यापार में अत्यधिक कार्य करना होगा। संतान से सुख मिलेगा एवं पिता से सामंजस्य रहेगा। 1 से 28 फरवरी – स्वास्थ्य संबंधी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। कारोबार तेज रहेगा एवं आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। मांगलिक कार्यक्रमों में शामिल होंगे एवं कार्य का दबाव रहेगा। प्रिय वस्तु के गुम होने का भय है। 1 से 31 मार्च – सरकारी कार्यों से परेशान हो सकते हैं। जीवन साथी के सहयोग से मनोबल में वृद्धि होगी एवं परिवार में एकता बनाने में कामयाब होंगे। किसी पुराने निवेश से लाभ की स्थिति बनेगी। वरिष्ठों से सहयोग प्राप्त होगा एवं क्रेडिट नहीं मिलने से दुख होगा। 1 से 30 अप्रैल – माता-पिता से सहयोग मिलेगा एवं परिवार में प्रेम की वृद्धि होगी। किसी भी कार्य को करने की क्षमता का विकास होगा। 1 से 31 मई – निवेश से बचें। जायदाद संबंधी मामलों में तेजी आएगी। विरोधी आपकी कमजोरी का लाभ उठा सकते हैं। व्यापार में अचानक धन का लाभ होने के आसार हैं।


1 से 30 जून- शुभ संदेश प्राप्त होगा एवं संसाधनों से सुख की प्राप्ति होगी। उच्च शिक्षा वालों के लिए समय उत्तम है। विदेश जाने वालों के लिए समय अच्छा है। 1 से 31 जुलाई – पुराने विवादों को दूर कर साझेदारों से सामंजस्य बनाने में सफल होंगे। व्यस्तता अधिक रहेगी। गोपनीय एवं रहस्यमयी विद्याओं की ओर आकर्षण होगा। अटके कार्य संपन्न होंगे एवं दाम्पत्य जीवन में वैचारिक मतभिन्नता हो सकती है। 1 से 31 अगस्त – व्यर्थ की उलझनों से दूर रहें। कोई भी निर्णय लेने के पूर्व पिता की सलाह अवश्य लें अथवा किसी बुजुर्ग की सलाह लें। संतान से सुख मिलेगा। निवेश के प्रति सचेत रहें। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा एवं दिखावा नुकसानदेह हो सकता है। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। 1 से 30 सितंबर- पद में वृद्धि होगी एवं ऐसा सहयोग मिलेगा जो कल्पनातीत हो। अपने से छोटे के प्रति आपका व्यवहार निर्मम हो सकता है। इसलिए सचेत रहने की आवश्यकता है। ऐसा न करें। प्रभावशाली व्यक्तियों से काम निकालने में सफल होंगे।


1 से 31 अक्टूबर – मद्यादि सेवन की इच्छा प्रबल हो सकती है। इससे दूर रहने में भलाई होगी। आर्थिक क्षेत्र अस्थिर हो सकता है एवं बचत में भी कमी होगी। 1 से 30 नवंबर – प्रशासनिक कार्यों में सफलता मिलेगी। संतान से दुख मिल सकता है। महिलाओं के लिए संभलकर रहने का समय है। उनका कोई निर्णय नुकसानदायक हो सकता है। परिवार के प्रति जिम्मेदारी में वृद्धि होगी। 1 से 31 दिसंबर- बनते हुए कार्यों को आलस्य से बिगाड़ सकते हैं। छोटी लाभदायक व्यापारिक यात्रा हो सकती है। परिश्रम से हर कार्य को बनाने में सफल होंगे। कार्य में गलती निकालने वालों से सामना हो सकता है, लेकिन उनकी बातों से हताश न हों। कार्य का विस्तार उतना ही करें, जितना आप कर सकते हैं।
वर्ष में मां सरस्वतीजी एवं भैरव का पूजन, दर्शन लाभदायी होगा।

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>