गर्भ पेट दर्द कारण – Cause Pregnancy stomach pain In Hindi

pregnancy

गर्भ सम्बंधित पेट दर्द होने के अनेक कारण हो सकते हैं| ये गर्भावस्था के अनुसार बदलते रहते हैं| इसीलिए सही जानकारी हो होना बेहद आवश्यक है|

इम्प्लांटेशन (implantation) का मतलब होता है पहले हफ्ते में नवजात एमब्र्यो (बीज) का युटेरस के दीवाल में लग जाना| यह गर्भ के शुरूआती अवस्था में होता है| कभी कभार इसके साथ वजीना से हल्का खून गिर सकता है|

युटेरस के बढने से अगल बगल के अंगों पर दवाब और युटेरस के खींचने से होता है| यह मामूली दर्द होता है, जो की सामान्य होता है|

कब्जियत – यह आम बात है की युटेरस के आंतों पर दवाब होने से कभी-कभार कब्जियत हो जाए| इसके लिए अधिक पानी पीना चाहिए और खाने में हरे पत्तियों को बढाना चाहिए|

पेट में जलन या एसिडिटी (gastric acidity) बढ़ते युटेरस के असर से पेट पर भी दवाब पड़ता है| इससे पचा हुआ खाना विपरीत दिशा में खाने के नली से मुहं के तरफ जाने लगता है| इससे पेट में जलन का अनुभव होता है| यह सामान्य स्थिती है|

पेट दर्द के साथ वजीना से अधिक खून गिर रहा है – सावधान, यह गर्भपात का निशानी हो सकता है| तुंरत अपने डॉक्टर से संपर्क करें| अफ़सोस कि इस स्थिती में अधिक कुछ नहीं किया जा सकता है|

पेट दर्द, अत्याधिक खून गिरना या बेहोशी छाना – यह एक्टोपिक गर्भ (ectopic pregnancy) या बच्चादानी के बाहर गर्भ ठहरने के कारण हो सकता है| तुंरत डॉक्टर के पास जायें, क्योंकि इसमें मां के जान को खतरा हो सकता है| यह दर्द अधिकतर एक तरफ होते रहता है, और गर्भ के ठीक बीच में नहीं स्थित होता है|

क्रेम्पिंग या लेबर पेन्स (Labor pains) – जब प्रसव का समय आता है तो पेट में दर्द एक विशेष तरीके से आता है| यह साधारण रूप में गर्भावस्था के अंत (full term) में आता है| यह दर्द हर 5 मिनट पर आता है| इसमें तेज दर्द उठता है जैसे कि पीठ दर्द हो या मासिक धर्म हो| इसके साथ वजीना से पानी या खून भी गिर सकता है| अगर आप इस स्थिती हैं, तो तुंरत अस्पताल जायें| कभी कभार यह गर्भ के अंत से पहले भी हो सकता है, जिसे प्रीमेट्योर लेबर पेन्स (premature labor pains) कहते हैं| इसमें बच्चा समय से पहले (preterm baby) पैदा हो सकता है, और इसीलिए तुंरत अस्पताल जायें|

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

1 Response

  1. Skhafijul says:

    Pregnancy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>