अरिंदम चौधरी के बारे जाने – Know about Arindam Chaudhuri in Hindi

management-guru
अरिंदम चौधरी एक प्रबंधन सोचा मर्दर्शक व शिक्षक, उद्यमी, सार्वजनिक वक्ता, लेखक, अर्थशास्त्री, है सामाजिक क्षेत्र के क्षेत्रों में भारत के योजना आयोग के सलाहकार समिति के सलाहकार फिल्म निर्माण के शेत्र मे उन्हे तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया एक लाख से अधिक प्रशंसकों के साथ, वह फेसबुक पर दुनिया के सबसे पीछा प्रबंधन आइकन और अर्थशास्त्री है आईआईपीएम भारत की सर्वोच्च बी स्कूलों में से एक है और वो इसके मानद निदेशक हैं आईआईपीएम बी स्कूलों मे नंबर 1 बौद्धिक प्रभाव नंबर 1 सीएसआर कुल मिलाकर 4 उद्योग शेत्रो मे अपना नाम किया है आईआईपीएम में अरिंदम चौधरी राष्ट्रीय आर्थिक योजना सिखाता है. उनके सार्वजनिक सेमिनार के लिए लोगो की भीड़ रहती है जिसके लिए वो लोकप्रिय हो रहे हैं.2001 के बाद से वह सालाना टीवी पर एक “वैकल्पिक बजट” कार्यक्रम पेश कर रहे है इससे प्रमुख टीवी चैनलों पर जैसे ज़ी न्यूज़ और इंडिया टीवी में प्रसारित किया गया है.एक बजट विशेषज्ञ के रूप में हर साल वह लगभग वार्षिक बजट का दिवस पर भारत के हर दूसरे टीवी चैनल पर है.मीडिया और मनोरंजन में व्यावसायिक मे वो प्लानमान समूह के संस्थापक है और संडे इंडियन के मुख्य संपादक है प्लानमान मीडिया एक प्रमुख व्यापार पत्रिकाओं व्यापार और अर्थव्यवस्था है जो दुनिया के 14 भाषाओं में आती है 4PS व्यापार और मार्केटिंग, ह्यूमन फैक्टर और प्रमुख कैरियर पत्रिका म्योड़ भी उन्ही की है वो केवल भारतीय है जिनकी प्रबंधन पुस्तक दा डाइमंड इन यू की एक लाख से अधिक प्रतियां बिक चुकी है “डिसकवर दा डाइमंड इन यू” पहले दस दिनों में ही 1,00,000 प्रतियां बेचने का सर्वश्रेष्ठ विक्रेता का रेकॉर्ड रखते है वर्तमान में वो न्यू इंडियन एक्सप्रेस, द एशियन एज, डेक्कन क्रॉनिकल, मिड डे, पायनियर, सेंट्रल क्रॉनिकल, रविवार स्टैंडर्ड, नॉर्थ ईस्ट रवि पत्रिका, मेघालय गार्जियन, अरुणाचल की गूंज, नागालैंड पोस्ट, सिक्किम एक्सप्रेस, कश्मीर के साथ एक नियमित स्तंभकार है टाइम्स, मिलेनियम पोस्ट, दैनिक भास्कर (हिंदी) भारत, नवभारत (हिन्दी), ासोमिया प्रतिदिन (असमिया) में नंबर 1 दैनिक समाचार पत्र, धारिटिरी (उड़िया), पॉकनफम (मणिपुरी) और उर्दू दैनिक समाचार पत्रों – एतएमाड, कश्मीर उज़्मा और सहाफट के कॉलम मे अपना लेख लिखते है

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>