क्या इंसानों के अलावा भी अंतरिक्ष में जीवन है-What is life in space than humans ? IN Hindi

दुनिया भर में आज सबसे बड़ा सवाल बन कर रह गए एलियंस को लेकर रूस के एक शीर्ष विज्ञानी ने बेहद सनसनीखेज खुलासा किया है। रूसी विज्ञान अकादमी के निदेशक अंद्रेई फिन्केल्सटेन ने दावा किया है कि मनुष्य का सामना एलियंस से मात्र 20 वर्षों के अंदर हो जायेगा।
रूस की सरकारी संवाद समिति ‘इंटरफैक्स’ ने रूसी विज्ञान अकादमी के अंतरिक्ष संस्थान के एक शीर्ष वैज्ञानिक के हवाले से खबर दी हैकि पृथ्वी से इतर अन्य ग्रहों पर निश्चित रूप से जीवन है और संभावना है कि धरती के मनुष्य का अगले दो दशकों में उन प्राणियों से आमना-सामना हो जाएगा।
यही नहीं अंद्रेई का मानना है कि बाहरी ग्रहों के प्राणियों के भी पृथ्वी के मनुष्यकी तरह ही दो हाथ, दो पैर और एक सिर हैं।


f2547d4cd990a9b6ec2773fc8b8a6bda1-617x462

एलियन के अस्तित्व पर अभी तक प्रश्नचिन्ह लगा हुआ है, कोई नहीं जानता कि एलियंस होते भी है या नहीं। लेकिन हाल ही में हमारे सौरमंडल में एलियन के ग्रह का पता लगाया गयाहै जहां एलियंस रहते हैं। अमेरिकी अंतरिक्षएजेंसी नासा के महाअंतरिक्ष यान केपलर ने हमारे सौरमंडल में ऐसे ग्रह की खोज की है जिससे एलियन के होने का प्रमाण मिलता है। केपलर द्वारा खोजा गया नया ग्रह ‘केपलर-11’ ही वो ग्रह है जिसे एलियंस की एक नई दुनिया कहा जा रहा है। सूर्य जैसे दिखने वाले ‘केपलर-11’ के कक्ष में 6 अन्य ग्रह चक्कर लगाते हैं। एलियंस हमेशा से ही चर्चा का विषय बना हुआ है, लेकिन अब शायद इस चर्चा पर विराम लग जाए कि एलियंस नहीं होते।

क्या इंसानों के अलावा भी अंतरिक्ष में जीवन है? जी हां है। यह मानना है दुनिया के सबसे बड़े वैज्ञानिक और विचारक स्टीफन हाकिंग का। लेकिन साथ ही वह यह भी कहते हैं कि मनुष्यों को एलियंस [अंतरिक्ष जीव] के साथ संपर्क करनेकी कोशिश नहीं करना चाहिए।
‘डिस्कवरी’ चैनल द्वारा बनाई गई एक डाक्युमेंट्री में हाकिंग ने कहा कि नि:संदेह एलियंस हैं। इस डाक्युमेंट्री में हाकिंग ने ब्रह्मांड के कई रहस्यों पर से परदा उठाया है।
संडे टाइम्स में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसारहाकिंग इस बात के प्रति आश्वस्त हैं कि एलियंस हैं। खास बात यह कि वह सिर्फ ग्रहों पर ही अंतरिक्ष जीवों की संभावना को नहीं स्वीकारते, बल्कि सितारों और अंतरिक्ष में दो ग्रहों के बीच विस्तृत खाली आकाश में भी इनकी मौजूदगी बताते हैं।
अंतरिक्ष में जीवन को लेकर हाकिंग का तर्क बहुत सरल है। वह कहते हैं कि करीब सौ अरब आकाशगंगाएं हैं और उनमें खरबों सितारे हैं। ऐसी स्थिति में सिर्फ पृथ्वी ग्रह पर ही जीवनहो, यह संभव नहीं हो सकता।


68 वर्षीय हाकिंग कहते हैं, ‘गणितीय आधार पर विचार करने वाले मेरे मस्तिष्क में एलियंस के होने का खयाल बहुत स्पष्ट है। हमारे सामनेअसली चुनौती यह जानना है कि आखिर एलियंस हैं कैसे?’


इसका जवाब भी वैसे हाकिंग देते हैं। उनके अनुसार ये जीव मुख्य रूप से अत्यंत सूक्ष्म [माइक्रोब्स] या फिर सीधे-सादे पशु हो सकते हैं। इनमें अधिकांश पृथ्वी के इतिहास में मिलने वाले जीवों की तरह होंगे। डाक्युमेंट्री में इन अंतरिक्ष जीवों को दो पैरों वाले शाकाहारी के रूप में दिखाया गया है, जिन्हें पीले छिपकली जैसे उड़ने वाले जीव लपक लेते हैं। एक अन्य दृश्य में समुद्र में रहने वाले चमकदार फ्लोरोसेंट रंगों के जीव में दर्शाया गया है।


यद्यपि यह काल्पनिक है, परंतु हाकिंग ने इनकेमाध्यम से एक गंभीर बात कही है। उनके अनुसार कुछ अंतरिक्ष जीव अत्यधिक बुद्धिमान हो सकतेहैं और मनुष्यों के लिए खतरा बन सकते हैं। उनका मानना है कि ऐसे जीवों के साथ संपर्क मानव सभ्यता पर संकट ला सकता है। वह कहते हैं कि ऐसे जीव पृथ्वी पर हमला करके यहां के संसाधनों पर कब्जा कर सकते हैं।
हाकिंग की मानें, तो हमें सिर्फ अपनी सभ्यता पर ध्यान देना चाहिए। वह कहते हैं, ‘मैं कल्पना करता हूं कि वे [एलियंस] बड़े-बड़े अंतरिक्ष यानों में हैं और अपने ग्रह के सारेसंसाधनों का उपभोग कर चुके हैं। ऐसे जीव खानाबदोश बन कर दूसरे ग्रहों की तलाश में हो सकते हैं और उन्हें जीत कर अपना घर बना सकते हैं।

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>