योनि में खुजली-Vaginal Itching In Hindi

योनि में खुजली होना आधी आबादी महिलाओं की समस्‍या है। वैसे तो ज्‍यादातर महिलाएं इस बारे में खुल कर बात नहीं करती मगर जब यह समस्‍या असहनिये बन जाती है तब जा कर कुछ महिलाएं अपना मुंह खोलती हैं। योनि खुजली योनि की बाहरी त्वचा पर खरोंचने की इच्छा को कहते हैं यह एक कष्टप्रद समस्या है। यह महिलाओं के लिए एक चिंताजनक समस्या है, खासकर अगर यह जीर्ड (क्रोनिक) रूप में होती है, और यह बहुत बड़ी असुविधा का कारण बन सकती है। योनि में खुजली होने के कई कारण हो सकते हैं, इन कारणों में खमीर संक्रमण (ईस्‍ट इन्फेक्शन) होना, रोजाना सफाई-धुलाई न करने से अस्वच्छता का होना या फिर किसी एलर्जी के कारण हो सकता है। सेक्‍स, ज्‍यादा चीनी के सेवन, एंटीबॉयोटिक्‍स या फिर कमजोर इम्‍मयून सिस्‍टम की वजह से योनि में खमीर की संख्‍या बढ जाती है। यहां तक कि जो आप सुगन्‍धित बॉडी वॉश का प्रयोग करती हैं वह भी योनि के पीएच लेवल को बिगाड़ सकती है।
यदि यूनीन के दौरान जलन होती है, तो उसका मतलब है कि संक्रमण बढ़ चुका है, लिहाजा ऐसे में डॉक्‍टर से सलाह लेने में देर मत करें। इस संक्रमण के पैदा होने से गंध भी आती है
कैसे पाएं मुक्‍ती?


22-skirt

1. इसे ठीक करने के लिये आप दवाइयां या जैल का प्रयोग कर सकती हैं जो योनि को जलन से राहत दिलाएगें। ईस्‍ट यानी की खमीर को मीठा बहुत पसंद है इसलिये इस दौरान कुछ भी मीठा न खाएं नहीं तो योनि में इनकी संख्‍या बढ सकती है। इसके अलावा मैदे का भी सेवन बिल्‍कुल बंद कर दें।


2. नीम के पत्तों को पानी में उबालकर उसी पानी से योनि की सफाई करें। नारियल के तेल में कपूर मिलाकर योनि पर लगाने से भी खुजली दूर होती है।


3. हमेशा कॉटन की अंडरवियर पहने , जिससे कि वह जल्‍दी सूख जाए। इसके अलावा इसे दिन में दो बार चेंज भी करें।


4. एलर्जी रिएक्‍शन से भी परेशानी पैदा हो सकीत हैं। कोई भी तेज गंध वाला परफ्यूम, लोशन या साबुन का इस्‍तमाल न करें। कुछ कपड़े जैसे पोलिस्‍टर से भी आपको एलर्जी हो सकती है, इसलिये इससे दूरी बनाए रखें।

डॉक्‍टर से कब मिले?

जब आपकी स्‍थति वैसे की वैसे ही रहे और कोई भी सुधार न देखने को मिल रहा हो तो तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें। अगर योनि की खुजली एक बार सही हो चकुी है मगर फिर दुबारा वापस आ गई हो तो, डॉक्‍टर से सम्‍पर्क कीजिये।

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>