चार आयामी मुद्रण (4-डी प्रिंटिंग) – Four-dimensional printing (4 – D Printing) in Hindi

4d-printing
दअभी बहुत सारे लोगो को 3-डी प्रिंटिंग के बारे में मालूमात नाही है, लेकिन अमरीका के एमआईटी (मैसेचुसेट्स इंस्टिच्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी) के वैज्ञानिक़ों ने दावा किया है कि वो इससे भी विकसित तकनीक 4-डी प्रिंटिंग पर काम कर रहे हैं.
लॉस एंजेल्स में चल रहे टेड कॉंफ़्रेंस में कंप्यूटर वैज्ञानिक ‘स्काइलर टिब्बिट्स’ ने इस बारे में जानकारी देते हुए दिखाया कि 4-डी तकनीक के ज़रिए वस्तुएं ख़ुद ही जुट जाती हैं.
स्काइलर टिब्बिट्स के अनुसार 4-डी तकनीक का इस्तेमाल उन जगहों में किसी चीज़ को स्थापित करने में किया जा सकता है जहां आसानी से पहुंचना मुश्किल है जैसे कि पानी के अंदर से होकर जाने वाले पाइप.
स्काइलर टिब्बिट्स के अनुसार 4-डी तकनीक का इस्तेमाल उन जगहों में किसी चीज़ को स्थापित करने में किया जा सकता है जहां आसानी से पहुंचना मुश्किल है जैसे कि पानी के अंदर से होकर जाने वाले पाइप.
इसके अलावा इस तकनीक के ज़रिए ऐसे फ़र्नीचर बनाए जा सकते हैं जो कि ख़ुद ही जुट जाएंगे.
एमआईटी के ‘सेल्फ़ एसेंबली लैब’ से जुड़े स्काइलर टिब्बिट्स ने 4-डी तकनीक के बारे में और अधिक जानकारी देते हुए कहा, ”हमलोगों का मानना है कि चौथा आयाम समय है और समय के साथ स्थिर चीज़ें अपना रूप बदल लेंगी.’

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>