अजाक्स एसिंक्रनस जावास्क्रिप्ट आंड एक्सम्ल – Ajax (asynchronous javascript and xml) in Hindi

ajax_p
अजाक्स (अतुल्यकालिक जावा स्क्रिप्ट और XML का संक्षिप्त रूप) अंतर सम्बंधित वेब विकास तकनीकों का एक समूह है जिसका उपयोग इंटरेक्टिव वेब अनुप्रयोग के निर्माण के लिए ग्राहक पक्ष पर किया जाता है.
अजाक्स के साथ, वेब अनुप्रयोग पृष्ठभूमि में सर्वर से अतुल्यकालिक रूप से डेटा को पुनः प्राप्त कर सकता है, इसमें डिस्प्ले और उपस्थित पेज के व्यवहार से किसी प्रकार की कोई बाधा नहीं पहुंचती है. अॅडजक्स का इस्तेमाल rich user interaction के लिये भी किया जाता है. वेब page के किसी भी भाग को refresh or अपडेट भी किया जा सकता है बिना whole पेज refresh किए.
अजाक्स तकनीकों के उपयोग ने वेब पेज पर इंटरेक्टिव या गतिशील इंटरफेस में वृद्धि की है. डेटा आमतौर पर XMLHttp रिक्वेस्ट ऑब्जेक्ट का उपयोग करते हुए पुनः प्राप्त किया जाता है. नाम के बावजूद जावास्क्रिप्ट और XML का उपयोग वाक्स्तव में ज़रुरी नहीं होता है, ना ही रिक्वेस्ट (अनुरोध) के अतुल्यकालिक होने की आवश्यकता होती है.
सामग्री की अतुल्यकालिक लोडिंग के लिए तकनीकें सन् 1990 के दशक के मध्य में आयीं. जावा भाषा के पहले संस्करण में जावा ऐपलेट की शुरुआत सन् 1995 में हुई. ये एक वेब पेज को लोड किये जाने के बाद डेटा को अतुल्यकालिक रूप से लोड करने के लिए संकलित ग्राहक पक्ष कोड की अनुमति देते हैं.
HTML या वेब पेज बनाने के लिए कई बार कुछ पेज को संवादात्मक या (interactive) बनाने के लिए स्क्रिप्ट्स की जरुरत पड़ती है. कुछ scripts होती है जो client साइड पर आपके ब्राउजर में रन करती है जैसे javascript. AJAX ऐसी ही एक स्क्रिप्ट है लेकिन इसकी ख़ास बात ये है की ये वेब सर्वर पर रन होती है. गूगल साइट्स AJAX का काफी इस्तेमाल करती है.

कमियां

अजाक्स इंटरफेस को विकसित करना स्थैतिक पेजों की तुलना में मुश्किल होता है.
गतिशील वेब पेज अपडेट्स एक उपयोगकर्ता के लिए अनुप्रयोग की एक विशेष अवस्था में बुकमार्क को कठिन बनाते हैं.
अजाक्स की पावर से युक्त इंटरफेस वेब सर्वर और उनके पिछले अंत (डेटाबेस या अन्य) के लिए उपयोगकर्ता के द्वारा उत्पन्न रिक्वेस्ट की संख्या में वृद्धि कर सकते हैं. इससे प्रतिक्रिया के समय में और / या अतिरिक्त हार्डवेयर आवश्यकताओं में वृद्धि होती है.
उपयोगकर्ता इंटरफेस भ्रामक हो सकता है या अस्थायी रूप से व्यवहार कर सकता है जब सामान्य वेब प्रतिरूपों का अनुसरण नहीं किया जाता है.

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>