कंप्यूटर धीमा पड़ने के कारन : – Measure components that make a computer slow in Hindi

Computer-Speed

कंप्यूटरों के धीमा पड़ने के आम कारणों में बहुत ज्यादा सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करना और बड़ी संख्या में टेंपरेरी फाइलों या सिस्टम फाइलों का हार्ड डिस्क में जमा हो जाना है। ये फाइलें सॉफ्टवेयरों के इन्स्टॉलेशन या इस्तेमाल के साथ-साथ इंटरनेट सर्फिंग के कारण भी बन जाती हैं। वायरसों, स्पाईवेयर, एडवेयर जैसे घातक ऐप्लिकेशंस और मैलवेयर भी इसमें बड़ी भूमिका निभाते हैं। सासर जैसे वायरस तो उन्हें इतना धीमा कर सकते हैं कि आप माउस तक न हिला पाएं। हार्ड डिस्क संबधी गड़बडि़यां भी काम की स्पीड घटा देती हैं। अगर आप अपने कंप्यूटर को बरसों बरस तेज बनाए रखना चाहते हैं तो आपको इन बातों का खास खयाल रखना चाहिए :

  1. अपने आप बनने वाली टेंपररी फाइलों (टेम्प) को पूरे कंप्यूटर में सर्च कर डिलीट कर दें। इसके लिए आप आगे बताए गए स्टेप्स को फॉलो करें :
    Internet explorer-Tools-Brousing history-Delete .
  2. अगर रिसाइकिल बिन भरा पड़ा है तो उसे खाली कर लें।
  3. नॉर्टन, मैकेफी, कैस्परस्की, एवीजी (मुफ्त भी उपलब्ध), ट्रेंड माइक्रो जैसा कोई अच्छा ऐंटि- वायरस सॉफ्टवेयर इन्स्टॉल करें और अपने कंप्यूटर को वायरसों से मुक्त रखें। इसी तरह स्पाईवेयर हटाने के लिए ‘स्पाईवेयर सर्च ऐंड डिस्ट्रॉय’ सॉफ्टवेयर का प्रयोग करें।
  4. हार्ड डिस्क में मौजूद डेटा को सिलसिलेवार ढंग से जमा करने (डीफ्रैगमेन्ट) के लिए आप इन स्टेप्स को फॉलो करें :
    My computer-Local disk-Right click-Properties-Tools-Defragment now.
  5. हार्ड डिस्क बहुत भर गई है तो गैरजरूरी फाइलों को हटाकर उसमें कम-से-कम एक चौथाई जगह खाली रखें।
  6. कंट्रोल पैनल में जाकर Add-remove programs सुविधा के जरिए ऐसे सभी सॉफ्टवेयरों को हटा दें जिनकी जरूरत अब नहीं है। बहुत ही कम इस्तेमाल होने वाले सॉफ्टवेयर को भी हटा सकते हैं और जब जरूरत हो दोबारा इन्स्टॉल कर सकते हैं।
  7. कंप्यूटर में सभी सॉफ्टवेयरों से संबंधित सूचना एक जगह पर दर्ज होता है, जिसे रजिस्ट्री कहते हैं। रजिस्ट्री को साफ करने के लिए किसी फ्रीवेयर रजिस्ट्री क्लीनर का प्रयोग करें ताकि वहां हटाए गए सॉफ्टवेयरों का गैरजरूरी डेटा न पड़ा रहे।
  8. इसके अलावा अगर आपके कंप्यूटर में रैम कम है तो उसे बढ़वा लें. अमूमन एक जीबी रैम अच्छी मानी जाती है पर अगर आप ज्यादा सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करते हैं तो रैम को एक जीबी से दो जीबी करवा लें.
  9. Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>