जॉर्ज वॉशिंगटन-George washington

संयुक्त राज्य अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे. उन्होंने अमेरिकी सेना का नेतृत्व करते हुए ब्रिटेन के ऊपर अमरीकी क्रान्ति (१७७५-१७८३) में विजय हासिल की. उन्हें १७८९ में अमरीका का पहला राष्ट्रपति चुना गया। आज भी अमरीका में उनके नाम का सिक्का चलता है. उनकी माता का नाम मैरी बॉल और पिता का नाम औगस्टाइन वॉशिंगटन है. वे दोनो एक स्थानीय विश्वविद्यालय में शिक्षक थे। बतौर बालक, वॉशिंगटन ने बहुत लंबे समय तक किसी विद्यालय में प्रवेश नहीं लिया था. जॉर्ज वाशिंगटन के बारे में एक प्रचलित लेकिन झूठी कहानी है कि एक बार उन्होंने बचपन में अपने पिता के चेरी वृक्ष को काट दिया। जब उनके पिता ने पूछा तो उन्होंने झूठ नहीं कहा और सच-सच बता की पेड़ उन्होंने ही काटा है. यह कहानी यह बताने के लिए बताई और कही जाती है की वॉशिंगटन कितने ईमानदार थे. जॉर्ज वाशिंगटन ने कहा – “नाविक बनकर मैं अनजाने देशों की यात्राएं करूँगा और अजीबोगरीब चीज़ें देखूंगा. एक दिन मैं किसी जहाज का कैप्टन भी बन जाऊँगा”. जन्म: २२ फरवरी, १७३२ मृत्यु: १४ दिसंबर १७९९

george

जॉर्ज वॉशिंगटन उद्धरण

सभी के साथ विनम्र रहे , पर कुछ ही के साथ अन्तरंग हों , और इन कुछ को अपना विश्वास देने से पहले अच्छी तरह परख लें.

बंदूकें महत्त्व में सिर्फ संविधान से कम होती हैं; वे लोगों की स्वतंत्रता का दांत होती हैं.

बिना प्रभु और बाइबिल के देश पर सही ढंग से शासन करना असंभव है.

यदि बोलने की स्वतंत्रता छीन ली जाये तो शायद गूंगे और मौन हम उसी तरह संचालित होंगे जैसे भेड़ को बलि के लिए ले जाया जा रहा हो .

मेरी माँ सबसे खूबसूरत औरत थीं जिसे मैंने कभी देखा . मैं जो भी हूँ अपनी माँ की वजह से हूँ. मैं अपने जीवन में मिली सभी सफलता का श्रेय उनसे मिली नैतिक, बौद्धिक और शारीरिक शिक्षा को देता हूँ.

सरकार तर्कपूर्ण नहीं है, वह सुवक्ता नहीं है; वह ताकत है . आगा की तरह , वह एक खतरनाक नौकर है और एक भयानक मालिक.

प्रसन्नता और नैतिक कर्तव्य एक दूसरे से पूरी तरह से जुड़े हुए हैं. यदि आप अपनी प्रतिष्ठा का सम्मान करते हैं तो अच्छे गुडों से संपन्न लोगों के साथ जुड़िये ; क्योंकि बुरी संगत में रहने से अच्छा अकेले रहना है

वह समय बहुत नज़दीक है जो तय करेगा कि अमेरिकी स्वतंत्र होंगे या गुलाम .

अपने ह्रदय में उस दीव्य चिंगारी , जिसे अंतरात्मा कहते हैं, को जिंदा रखने के लिए मेहनत करो.

सभी देशों के प्रति अच्छी भावना और न्याय रखें . सभी के साथ शांति और सद्भाव स्थापित करें

जहाँ सत्य उजागर करने के लिए कष्ट उठाया जाता है वहां अंततः सत्य की जीत होती है.

युद्ध के लिए तैयार रहना शांति बनाये रखने के सबसे प्रभावी साधनों में से एक है.

अपने हृदय को हर किसी की वेदना और संकटों को महसूस करने दीजिये , और अपने हाथों को अपने बटुए के हिसाब से देने दीजिये.

कोसना और कसम खाना इतना तुच्छ और गिर हुआ काम है कि कोई भी समझदार और चरित्रवान व्यक्ति इससे घृणा करता है .

न्याय का प्रबंध सरकार का सबसे मजबूत स्तम्भ है

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

4 Responses

  1. Diya says:

    Cool personalities. With the same time great.

  2. Reji says:

    Charlie chaplin my fevourite hero

  3. Prajwal maurya says:

    I am hero sabka father

Leave a Reply to Diya Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>