ई किताब-E book

ebook

एक इलेक्ट्रॉनिक पुस्तक (विभिन्न: पुस्तक, यहां तक ​​कि डिजिटल किताब, या ई संस्करण) कंप्यूटर अथवा अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर पठनीय एक किताब लंबाई टेक्स्ट से मिलकर डिजिटल रूप में प्रकाशन, चित्र है. कभी कभी एक छपी पुस्तक की एक इलेक्ट्रॉनिक संस्करण “के रूप में परिभाषित किया गया है, कई ई पुस्तकों के किसी भी मुद्रित बराबर के बिना मौजूद हैं. व्यावसायिक रूप से e-किताबें आमतौर पर, ई पुस्तक पाठकों पर कंप्यूटर, कई मोबाइल फोन, और सभी smartphones सहित, एक चलाया देखने कि स्क्रीन है सुविधाओं के लगभग किसी भी परिष्कृत इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पढ़ने जा सके करने का इरादा कर रहे हैं और e-किताबें उत्पादन की बिक्री भी पढ़ने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. अमेजन के संस्थापक जैफ बेजोस के मुताबिक क्लिक करें ई-बुक्स का कारोबार अरबों डॉलर तक पहुंच गया है. हालांकि अभी तक बाज़ार में टेक्स्ट बुक्स का ही दबदबा है लेकिन इससे फ़ोटोग्राफिक प्रकाशकों के अस्तित्व को खतरा पैदा हो गया है. डिजिटल पब्लिशिंग का बढ़ता प्रचलन फ़ोटोग्राफिक क्लिक करें किताबों के प्रकाशकों से लिए चुनौती बनकर उभरा है. गूगल की प्रवक्ता जेनी होर्नुंग का कहना है, हमें विश्वास है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा ई-बुक पुस्तकालय होगा मुफ्त पढ़ी जा सकने वाली किताबों को मिला कर इनकी कुल संख्या तीस लाख से ज्यादा है. गूगल ई-बुक्स इंटरनेट क्लाउड पर ऑनलाइन रखी जाएँगी और वेब से जुड़े किसी भी कंप्यूटटर या फिर एप्पल के आईफोन, आईपैड, आई पॉड टच और ऐसे स्मार्ट फोन्स जिस पर गूगल के एन्ड्रॉइड सॉफ्टवेयर हो, उन पर पढ़ी जा सकेंगी. ई-बुक स्टोर न्यूयॉर्क टाइम्स के बेस्ट सेलर उपन्यासों से लेकर तकनीकी पुस्तकों तक सब कुछ उपलब्ध हो सकेगा और इसके वर्चुअल पन्नों पर ग्रॉफिक्स भी आसानी से देखे जा सकेंगे. जिन किताबों का कॉपीराइट है या फिर जिनके लेखकों का कोई अता पता नहीं है ऐसी किताबें ई-बुक स्टोर पर नहीं बेची जाएँगी।


उम्मीद की जा रही है कि इस साल अमेरिका में ई-बुक्स पर 96.6 करोड़ डॉलर खर्च किए जाएँगे और 2015 तक ये बढ़कर 2.81 अरब डॉलर हो जाएगा. एक शोध के मुताबिक अमेरिका में ई-बुक डिवास का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या इस साल के आखिर तक एक करोड़ से ज्यादा हो जाएगी। और 2015 तक 2 करोड़ 94 लाख अनुमानित है। फॉरेस्टर सर्वे के मुताबिक ई-बुक पढ़ने वाले लोगों में 35 फीसदी लोग लैपटॉप पर किताब पढ़ते हैं, 32 फीसदी अमेजन के किंडल पर और 15 फीसदी लोग एप्पल के आई फोन पर पढ़ते हैं.

Don't be shellfish...FacebookGoogle+TwitterEmail

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>